क्या करू यार a simple poem fall in love.. by ALOK UPADHYAY

जागा करता हु मैं रात में ,
खो जाता हु उसकी बात में ,
हुआ है जिस दिन से मुझको प्यार ..,
समझ नहीं आ रहा क्या करू यार ..,

पहले तो बड़ा खुश रहा करता था ,
प्यार व्यार से मैं बड़ा डरता था ,
जबसे करने लगा दिल उसका इंतजार
समझ नहीं आ रहा क्या करू यार ..,

खो जाता हु जब सामने वो आती है,
सुबह बात करू
न जाने कब शाम हो जाती है,
अब भी डर है उससे अलग हो जाने का,
न जाने कैसे हुआ मुझे इकरार
समझ नहीं आ रहा क्या करू यार ..!!!

SINGER ALOK UPADHYAY

SINGER ALOK UPADHYAY

One Response

Leave a Reply