अब के ऐसा दौर बना है

अब के ऐसा दौर बना है
हर ग़म काबिले-गौर बना है

उसके कल की पूछ मुझे, जो
आज तिरा सिरमौर बना है

फिर से चांद को रोटी कहकर
आंगन में दो कौर बना है

बंद न कर दिल के दरवाज़े
ये हम सब का ठौर बना है

इस्कूलों में आए जवानी
बचपन का ये तौर बना है

तेरी-मेरी बात छिड़ी तो
फिर किस्सा कुछ और बना है

झगड़ा है कैसा आख़िर, जब
दिल्ली-सा लाहौर बना है

Leave a Reply