अजन्मा गर्भ ।

मारते हैं कोख में जब हमें, अजन्मा बोझ समझ के,
असल में, गाड़ते है अपने ज़मीर को, मरा समझ के…!

ज़मीर को गाड़ना = ज़मीन में दबा कर मिट्टी से ढकना;
ज़मीर = अंतरात्मा;
मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०९ अगस्त २०१६.

AJANMA GARBH

6 Comments

  1. babucm babucm 19/08/2016
    • Markand Dave Markand Dave 20/08/2016
    • Markand Dave Markand Dave 20/08/2016
  2. mani mani 19/08/2016
    • Markand Dave Markand Dave 20/08/2016

Leave a Reply