उड़ान भरने दो::आनंद सागर

इस मंच से जुड़े सभी काबिल रचनाकारों के नाम-

****उड़ान भरने दो****

अपनी आगोश में ये आसमान भरने दो,
ये नये परिन्दे हैं,इन्हें उड़ान भरने दो l

ये जिन्दगी जीने का हुनर सीख जायेंगे,
ज़रा सब्र रखो,इन्हें ख्वाबों में जान भरने दो l

इनका हर हर्फ क़यामत तलक आबाद रहेगा,
शर्त है कि इनके मुंह में इनकी ज़ुबान भरने दो l

अभी तो चंद गज़ का फासला ही तय हुआ है,
अपने कदमों में इन्हें सारा जहान भरने दो l

मैं थक गया तो तेरे ही पहलू में गिरूंगा,
अभी पुरजोश हूं थोड़ी थकान भरने दो l

मैं छोड़ दूंगा शायरी,गज़लों से जूझना,
बस जो चोट है उसका निशान भरने दो ll

जुबान=भाषा/आवाज

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

15 Comments

  1. mani mani 15/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
  2. C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 15/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 16/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016
  6. Kajalsoni 16/08/2016
    • Er Anand Sagar Pandey 19/08/2016

Leave a Reply