“हम भारतवासी”

“हम भारतवासी-हम भारतवासी”
“न कोई हिन्दू , न कोई मुस्लिम”
न कोई धर्म-राशी ,
“हम भारतवासी- हम भारतवासी” ।

हम तो हैं ,भारत की सन्तानें
जाति-पाँति हम क्या जानें ,
साथ रहेंगे-साथ चलेंगे
अपने पथ पर अडिग रहेंगे ,
हम तो अपने देश के पंछी हैं ,
स्वदेश का जयगान करेंगे
हम-सब स्वराष्ट्र-भाषी ,
“हम भारतवासी-हम भारतवासी” ।

कर्त्तव्य के मूल पथ को ,
हमे खोना न पड़े
इन सजल आँखों का सपना
हमें तोड़ना, न पड़े,
बिन माँगे ही मिल जाये,
साथ आपका,
हमें इस पथ पर, अकेले ही,
जाना न पड़े….

कर्त्तव्य के लिए हम ,
एक पथ पर चलेंगे
चाहें लगा देनी पड़े
अपने प्राणों की बाजी ,
नहीं करा सकते, हम अपनी
जग में हँसी ।
“हम भारतवासी-हम भारतवासी”

मेरा वतन मेरी जाँ,
मिट जाऊँ अपने वतन पे
चाहें सौ जन्म भी लेनें पड़ें
इस भू पर मिटने के लिए ,
पीछे नहीं हटेंगे ,
हरगिज नहीं डरेंगे ,
चाहें मृत्यु भी सामने
खड़ी हो, हमे लेने के लिए ।

सर्वत्र बिखेरेंगे चन्द्रकित किरणें ,
जैसे गगन में शशी ।
“हम भारतवासी-हम भारतवासी” ।।
– आनन्द कुमार

7 Comments

  1. आनन्द कुमार ANAND KUMAR 15/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/08/2016
  3. babucm C.m sharma(babbu) 15/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/08/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 16/08/2016
  6. Kajalsoni 16/08/2016

Leave a Reply