शीर्षक : आजादी के खातिर ..

1. आजादी के खातिर वीरों ने प्राण ग़वायॉ
अपनी कुर्बानी देकर
हमारा भविष्य उज्जवल बनाया
ह्रदय से नमन उन वीर जवानों को..
आजादी के सच्चे दीवानों को..
आजाद देश मे़ आजाद रहेंगे ..
यह संकल्प हमारा है..
भारत देश हमारा था,
भारत देश हमारा है |

2. हर हिन्दुस्तानी के लहू का कतरा-कतरा
देश के काम आया ,
१५ अगस्त १९४७ को
आजादी का झंडा फहराया |
आजादी के लिए मरने
वालों की कुर्बानी बेकार ना जाने देंगे ,
अपनी इस मातृभूमि पर
विदेशी ताकत को ना आने देंगे |

3. शान्ती, उन्नती और भाईचारे का प्रतीक तिरंगा है ,
हरा, सफेद और केशरिया रंग से रंगा है |
तिरंगे की शान ना अब कम होगी ,
गुलामी के जंजीर में अॉखें ना नम होगी ||

4. ये संकल्प मर्द और मर्दानी का है|
नौजवॉ हर हिन्दुस्तानी का है |
दुश्मन की हुंकार को
अपनी ललकार से मिटा देंगे ,
अगर दुश्मन वाज ना आया तो
जहॉ से उसका नामों निशान मिटा देंगे ||

5. सलाम है हिन्द के रखवालों को ,
हमारे देश के लिए शहीद हुए लालों को |
वीरों का देश हिन्दुस्तान है |
हम हिन्दुस्तानियो की जान
अपने वतन के लिए कुर्बान है ||

जय हिन्द !
जय भारत !!