शहीद ।

सभी प्यारे दोस्तों को १५ अगस्त स्वतंत्रता दिवस की ढ़ेरों शुभकामनाएं ।
आप का दिन मंगलमय रहे यही शुभकामना के साथ…सुप्रभात ।
मार्कण्ड दवे ।

कश्मीर की क़ातिल सड़कों पर, शहीद होना क़ुबूल था मुझे,
मैं जवान, हमराह वतन, गुमराह चमन की बर्बादी देख न सका..!

हमराह = ज़िंदगी की सफर का साथी;
गुमराह = सही राह से भटका हुआ;

मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० जुलाई २०१६.

SHAHID

4 Comments

  1. mani mani 15/08/2016
    • Markand Dave Markand Dave 15/08/2016
  2. C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 15/08/2016
    • Markand Dave Markand Dave 16/08/2016

Leave a Reply