तुम्हारी आस – शिशिर मधुकर

तुम्हारी आस हैं ये ही तुम्हे दिल में बसा लें हम
कैसे पूरी करें ख्वाइश बदलते हों नहीं जब तुम
तुमको अपनी किस्मत से जब तक शिकायत हैं
अक्सर रहोगे फ़िर तुम यहाँ पर तन्हाइयों में गुम

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 15/08/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/08/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 15/08/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/08/2016
  3. babucm C.m sharma(babbu) 16/08/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/08/2016

Leave a Reply