इर्ष्या से अधर सजाये….

यह स्वार्थ सिन्धु का गौरव
अति पारावार प्रबल है।
सर्वश्व समाहित इसमें,
आतप मार्तंड सबल है॥

मृदुभाषा का मुख मंडल,
है अंहकार की दारा।
सिंदूर -मोह-मद-चूनर,
भुजपाश क्रोध की करा॥

आश्वाशन आभा मंडित,
इर्ष्या से अधर सजाये।
पर द्रोही कंचन काया,
सुख शान्ति जलाती जाए॥

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल ‘राही’

Leave a Reply