?प्यार हो तो ऐसा ?

दिल हो खुला आसमान जैसा
बातों में हो मधु जैसी मधुरता
“दुष्यंत” का विचार कहता है
सदा अटूट हो रिश्ता-नाता

प्रेम की बहती रहे अनंत सरिता
हँसती-खिलती रहे सदा चेहरा
प्यार हो तो ऐसा हो अमिट निशां
सुरभि अनुपम रंग से जीवन हो रंगा

मन पटल रहे विमल गंगा सी
खुशियों का बसेरा हो सुबह-संध्या
रिश्तों में सदा-सदा ही महक रहे
जैसी कोई फूलों की महकती बगियाँ

मंजु-मंजुल हो जाए जीवन हमारा
सदा सत्य रहे और भी निखरता
परिवार, देश और समाज में
हम रहे या न रहे ,रहे एकता अखंड़ता

कवि:- दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

5 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 11/08/2016
  2. Dushyant patel 11/08/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  4. Dushyant patel 11/08/2016
  5. Kajalsoni 11/08/2016

Leave a Reply