क्यों लिखूँ मैं ? – ऋचा यादव

क्यों लिखूँ मैं ?
अपने इस जीवन के बारे में .
कुछ बचा नहीं है
तुमको अब बताऊँ क्या ?
वो मीठे पल
वो यादें खट्टी
सब पड़ गयी हैं मेरे
जीवन में फीकी .
जो पहले था अब बचा नहीं
जो अब भी है वो मेरा नहीं .
ये सारा खेल समय का है
जो मेरा कुछ मेरे पास नहीं.
ये समय का खेल समय ही जाने
इसकी बातें अब ये ही माने.
जीवन में अब कुछ बचा नहीं
फिर क्यों रोऊँ बीते कल को देख ?
जब बचा नहीं है जीवन में
फिर क्यों लिखूँ मैं अपने इस जीवन के बारे में ??????????????????

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/08/2016

Leave a Reply