मन

मन मैला तो नजर मैली, होंगे ख्यालात मैले।.
निय्यत मे खलल तो होंगे आख़लाक़ मैले।.
लाख संभालो रोक न पावोंगे मन को होगए गर करम मैले।.
(आशफाक खोपेकर)

3 Comments

  1. babucm babucm 09/08/2016
  2. Kajalsoni 09/08/2016

Leave a Reply