दोस्त

सब से प्यारा लागे जीवन मे हम को दोस्त हमारा ।. दोस्त दोस्त की जान होता है निकम्मा हो या नाकारा।. रोक न पाता खुदको दोस्त गर दोस्त ने दिल से पुकारा।. गिले शिकवे खत्म करदे पलभर मे वही दोस्त हमारा।.
(आशफाक खोपेकर).

2 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 09/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/08/2016

Leave a Reply