कफन

चिराग से न पूछो बाकि तेल
कितना है
सांसो से न पूछो बाकि खेल
कितना है
पूछो उस कफ़न में लिपटे मुर्दे से
जिन्दगी में गम और कफ़न में चैन
कितना है…
(प्रति)

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/08/2016
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 09/08/2016
  3. Kajalsoni 09/08/2016
  4. अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 09/08/2016
  5. babucm babucm 09/08/2016
  6. mani mani 09/08/2016

Leave a Reply