प्रतिध्वनि

प्रतिध्वनि
****************
आसमान को देख,
सहसा निकली चीख़
शून्य को चीरकर
व्योम के छोर से
टकराने चली गई,
परंतु कहीं से भी
प्रतिध्वनि नहीं हुई !
********************
-गुमनाम कवि (हिसार)
********************

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/08/2016

Leave a Reply