दोस्ती

Happy friendship day…
दोस्ती भी क्या खूब है यारों,
न खून का रिश्ता है, न ही कोई नाता है,
फिर भी ये रिश्ता हर शख्स को खूब भाता है,
उम्र का कोई बंधन नहीं है,बच्चा हो या व्यस्क,
हर इंसान अपने दोस्त पर इतराता है,
बच्चों की तोतली भाषा में जब दोस्तों का जिक्र आता है,
तो मन ही मन हम सबको मीठा अहसास दिलाता है,
और पता ही नहीं चलता, ये रिश्ता इतना गहरा हो जाता है,
बचपन के गड्डों गुड़ियों के खेल से पनपा ये रिश्ता,
कब सुख दुख का साथी बन जाता है,
चाहे कितने मील के फासले हो,
पर दिल से दिल जुड़ जाता है,
सुख में दोस्त है अगर,
दूसरे दोस्त की ख़ुशी बन जाता है,
आँसू गर एक के निकले,
दूसरे को बहुत तड़पाता है,
सच्चा दोस्त है गर जीवन में,
इंसान हर तूफाँ से लड़ जाता है,
वो ऐसा अनमोल रत्न है,
जिसको पाकर धन्य जन्म हो जाता है।
By:Dr Swati Gupta

8 Comments

  1. sarvajit singh sarvajit singh 07/08/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 07/08/2016
  2. अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 07/08/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 09/08/2016
  3. Gumnam Kavi 07/08/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 09/08/2016
  4. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 07/08/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 09/08/2016

Leave a Reply