क़रार दे के किया जिसने बेक़रार मुझे

क़रार दे के किया जिसने बेक़रार मुझे
है इंतिज़ार उसी पल का इंतिज़ार मुझे

ये और बात कि आँसू हुए हैं ख़र्च मगर
समझ में आ गया ख़्वाबों का कारोबार मुझे

जो प्यास है तो क़रीब आओ और बुझालो प्यास
मैं एक दरिया हूँ समझो न रेगज़ार मुझे

सदा-ए-दिल तो बहुत दूर तक पहुँचती है
पुकारते तो सही दिल से एक बार मुझे

उसे छुआ तभी दरवाज़ा-ए-यक़ीन खुला
नहीं था अपनी ही आँखों पे ऐतबार मुझे

वो फूल ख़ाना-ए-दिल में महकते रहते हैं
जो फूल दे के गई थी कभी बहार मुझे

Leave a Reply