“कोई जवाब नहीं “

तुम कहती थी ना…
‘मैं’ लिखाता नहीं…
लो, मैंने लिख दिया
चंद अल्फ़ाज़ ही सही
जमानेवालों के नाम..

क्या लिखा ?
क्यों लिखा ?
‘ख़ुद’ की तन्हाईयों से पूछो
मुझसे नहीं ……………..

8 Comments

  1. mani mani 06/08/2016
    • अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 06/08/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 06/08/2016
    • अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 06/08/2016
    • अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 06/08/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 06/08/2016
    • अभिनय शुक्ला अभिनय शुक्ला 06/08/2016

Leave a Reply