अजब ज़िन्दगी है गजब है कहानी

अद्भुत वादियों के नज़ारों को देख
खो गयी थी मैं
ओढ़ के चाँद तारों की चादर
सो गयी थी मैं

देख लाली आसमानों की
विभोर हो गयी थी मैं

चिड़ियों के चहचहाने पर
मुग्ध हो गयी थी मैं

उड़ते उनको देख कर
सुबह का अहसास हुआ
कैसे भागता है समय
काल चक्र का आभास हुआ
चलता रहता है समय यूँ ही
कभी बरसात तो कभी हिम पात हुआ

सदियों से बस यही है कहानी
है कहीं सूखा,कहीं नदियाँ तूफानी
करिश्में अजब हैं कुदरत के
आता है बुढ़ापा जब जाती है जवानी
सूख जाती हैं नदियां भी
रहती नहीं हैं मौजें न उनमें रवानी
अजब ज़िन्दगी है गजब है कहानी

25 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  3. कृष्ण सैनी krishan saini 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  4. C.M. Sharma babucm 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  5. Er Anand Sagar Pandey 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  6. रामबली गुप्ता 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  8. mani mani 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  9. ALKA ALKA 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  10. Kajalsoni 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016
  11. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 05/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/08/2016

Leave a Reply