भूत सी भयावनी भुजँग सी पयावनी औ

भूत सी भयावनी भुजँग सी पयावनी औ ,
चूल्हे की सी लावनी ज्योँ नील मे रँगाई है ।
हाथी कैसे खाल बूढ़े भालू कैसे बाल ,
मनो बिधि ते बिधाता आबनूस की बनाई है ।
चौदस अमावस सी अधिक लसति स्याम ,
कहै कवि गोविँद ज्योँ हबसी की जाई है ।
तबा तिमिराबली मसी तैँ महा कालिमा तू ,
ऎसो रूप सुँदर कहाँ ते लूटि लाई है ।

Leave a Reply