मेरा दिल खौफ़ में रहने लगा है

हिफाजत कर ले मेरी आजकल कहने लगा है,
ना जाने क्यूं मेरा दिल खौफ़ में रहने लगा है l

उम्र भर ख्वाब चुन-चुन कर जिसे तैयार किया था मैने,
मेरे ख्वाबों का वो नन्हा सा घर ढहने लगा है l

ज़रा से दर्द पर भी चीखकर इज़हार करता था,
मगर दिल आजकल सारे सितम सहने लगा है l

जिसको तमाम उम्र छुपा रखा था सीने में,
वो दरिया अब मेरी आंखों में आ बहने लगा है ll

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

5 Comments

  1. Kajalsoni 03/08/2016
  2. mani mani 04/08/2016
  3. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 04/08/2016

Leave a Reply