बदला – बेटे का

नींद की गोलीयों की आदी
हो चुकी बूढ़ी दादी गोली के
लिए जिद कर रही थी,
लेकिन पोते की नई ब्याह कर आई
डॉक्टर बहु उनको नींद की
गोली के साइड इफ़ेक्ट बता कर
गोली नहीं देने पर अड़ी हुई थी।
काफी देर प्यार मनुहार से बात
नहीं बनी तो दादी गुस्सा
दिखाकर नींद की गोली
प्राप्त करने का प्रयास कर रही
थी।
आखिरी हथियार के रूप में
दादी ने अपने बेटे विकास को
आवाज लगाईं।
विकास ने आते ही कहा
“अम्मा मुंह खोलो।”
बहु के मना करते करते भी उन्होंने
जेब से एक स्ट्रैप निकाल कर उसमे
से एक छोटी पीली गोली
दादी के मुंह में डाल दी।
पानी भी पिला दिया।
गोली लेते ही आशीर्वाद देती
हुई दादी नींद के आगोश में जाने
लगी।
बहु ने कहा की “पापा आपको
ऐसा नहीं करना चाहिए था”
बहु के ऐसा कहने पर विकास ने
स्ट्रैप बहु को दे दिया ।
नींद की गोली जैसा ही
विटामिन की गोली का
स्ट्रैप देखकर बहु के चेहरे पर
मुस्कुराहट तैर गई ।
और धीरे से बोली की
“पापा, आप माँ के साथ ही
चीटिंग करते हो!”
विकास ने मुस्कुराते हुए जवाब
दिया
“बहु, बचपन में इसने भी मुझे
चीटिंग कर कर के कई चीज़ें
खिलाई हैं।
अब बदला ले रहा हूँ।

12 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 03/08/2016
  2. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 03/08/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  4. Kajalsoni 03/08/2016
  5. mani mani 03/08/2016
  6. ALKA ALKA 03/08/2016
  7. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/08/2016
  8. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 04/08/2016

Leave a Reply