हम पीछे दौड़ते रहे

हम सत्य के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम झूठ के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम प्यार के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम जीवन के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम राहों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।
हम रिश्तों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।
***महेश रौतेला

9 Comments

  1. सोनित 01/08/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 01/08/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 01/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 02/08/2016
  5. mani mani 02/08/2016
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/08/2016
  7. babucm C.m.sharma(babbu) 03/08/2016
  8. महेश 03/08/2016

Leave a Reply