“किस्मत ” ———–काजल सोनी

राजा एक,
नर्तकी से बहुत प्यार करता था ।
देख देख उसे मुस्कराता,
शाम सबेरे आह भरता था ।

देख नर्तकी उसे मुंह फेर जाती ,
महफिल मे भी उसकी हंसी उड़ाती ।

राजा था बड़ा ही बदसूरत ,
और नर्तकी उतनी ही खुबसूरत ।

हुस्न का था उसे गुरुर बड़ा ,
गुरुर ने कभी मोहब्बत को न पढा ।

एक दिन नर्तकी ने,
पुछा हंसी उड़ाने के लिए ।
जब हुस्न बांट रहा था खुदा,
तो गये नही राजा तुम लेने के लिए ।

राजा ने कहा मुस्काते हुए ,
जब खड़ी थी तुम हुस्न पाने के लिए,

तो मै खुदा से ” किस्मत ” मांग रहा था ,
” किस्मत ” क्या है जानती है ।
उसी किस्मत से तो ,
तेरे जैसी हजारो हुस्न वाली,
मेरे इशारो पे नाचती है । ।

“काजल सोनी ”

34 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/08/2016
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
      • Kajalsoni 03/08/2016
  2. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 02/08/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  5. mani mani 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  6. sarvajit singh sarvajit singh 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  7. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  8. सोनित 02/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  9. ALKA ALKA 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  10. Mayur Sindha Mayur Sindha 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  11. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  12. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
    • Kajalsoni 03/08/2016
  13. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 03/08/2016
    • Kajalsoni 04/08/2016
      • C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 04/08/2016

Leave a Reply