आशा का गीत

आएँगे, अच्छे दिन आएँगें,
गर्दिश के दिन ये कट जाएँगे ।

सूरज झोपड़ियों में चमकेगा,
बच्चे सब दूध में नहाएँगे ।

सपनों की सतरंगी डोरी पर
मुक्ति के फ़रहरे लहराएँगे ।

Leave a Reply