माँ से ये कह कर निकले है

हम कफन ओढ घर से निकले हैं
जान हथेली में रखकर निकले है
दुश्मनों के मिटा देंगे वजूद हम
अपनी माँ से ये कहकर निकले है

10 Comments

  1. mani mani 29/07/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/07/2016
  3. Kajalsoni 29/07/2016
  4. Dushyantpatel 29/07/2016
  5. Dushyantpatel 29/07/2016
  6. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 29/07/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/07/2016
  8. Dushyantpatel 30/07/2016
  9. Dushyantpatel 30/07/2016

Leave a Reply