“आखिरी वादा “

आज भी वो आखिरी शाम याद है।
जब हम साथ थे।
तेरा वो कभी न छोड़ जाने का वादा।
ताउम्र साथ निभाने का पक्का इरादा याद है।
आज भी वो आखिरी शाम याद है।
बेबस और लाचार बैठा रहा मैं।
तुझे दूर जाते देखता रहा मैं।
वो फ़िक्र मैं तेरा मुझे गले लगाना याद है।
आज भी वो आखिरी शाम याद है।
वो बाते अनकही अधूरी सी ,
टूटती साँसों से तूने जो कही थी।
वो तेरी धड़कनो का रुक जाना याद है।
आज भी वो आखिरी शाम याद है।
तेरा मुझे छोड़ जाना याद है।
कसम ना दी होती तूने जो उस वक़्त।
मुझे भी तेरे साथ था चलना याद है।
शीतलेश थुल !!

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 28/07/2016
  2. रामबली गुप्ता 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 28/07/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 29/07/2016
  4. mani mani 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 29/07/2016
  5. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 29/07/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/07/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 29/07/2016

Leave a Reply