वक्त

वक्त ने सिखलाया है कि अब तुम्हें ही प्यार दूॅ
क्यों न ये जिन्दगी साथ.साथ रहकर गुजार दूॅ।

इश्क़ का पैगाम लिए कब तक घूमते रहेंगे हम
क्यों न इस जिन्दगी से एक और जिन्दगी संवार दूॅ।

करके शरारत न किसी का अब हम दिल दुखायेंगे
खाई है मैंने कसमें कि अपनी भी किस्मत सुधार दूॅ।

हलचल बैचैनी जैसे शब्दों को अब बीच में न लायेंगे
तमन्ना है अब अपने उजड़े से चमन को निखार दूॅ।

बी पी शर्मा बिन्दु

Writer Bindeshwar Prasad Sharma (Bindu)
D/O Birth 10.10.1963
Shivpuri jamuni chack Barh RS Patna (Bihar)
Pin Code 803214

14 Comments

  1. babucm babucm 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
  2. mani mani 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
  3. Kajalsoni 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/07/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/07/2016
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/07/2016

Leave a Reply