कैसे बोलों पंडिता देव कौने ठाईं

कैसे बोलों पंडिता देव कौने ठाईं
निज तत निहारतां अम्हें तुम्हें नाहीं । (टेक )

पषाणची देवली पषाणचा देव,
पषाण पूजिला कैसे फीटीला सनेह ।

सरजीव तैडिला निरजीव पूजिला,
पापची करणी कैसे दूतर तिरिला ।

तीरथि तीरथि सनान करीला,
बाहर धोये कैसे भीतरि मेदीला ।

आदिनाथ नाती म्छीन्द्र्नाथ पूता ,
निज तत निहारे गोरष अवधूता ।।

Leave a Reply