कहणि सुहैली रहणि दुहैली

कहणि सुहैली रहणि दुहैली
कहणि रहणि बिन थोथी ।
पठ्या गुण्या सूवा बिलाई षाया
पंडित के हाथ रह गई पोथी ।


कहणि सुहैली रहणि दुहैली
बिन षाया गुड मीठा ।
खाई हींग कपूर बषानै
गोरष कहे सब झूठा ।।

Leave a Reply