सम्मान से जियो

ना हिंदू से जियो
ना मुसलमान से जियो
गर जियो तो अपने
सम्मान से जियो.

तेरे लहू में कोई भेद नहीं भाई
बस विचारों में होती लड़ाई
हो सके तो नियत
औऱ ईमान से जियो

ना हिंदू से जियो ना …..

रंग में जो कुरंग भर देता
हर खुशी को बेढंग कर देता
कर सको नेक कर्म तो
अहसान से जियो

ना हिंदू से जियो ना …..

बेरुखी से दूषित होता दामन
बन्दगी से मिट जाता हर ग़म
मिले सबको अमन
एहतराम से जियो

ना हिंदू से जियो ना ….

नाज़ आओ करें हिन्द पर हम
रख भरोसा नित आगे बढे हम
लाख मुश्किल भी हो
फ़िर भी शान से जियो

ना हिंदू से जियो
ना मुसलमान से जियो
गर जियो तो अपने
सम्मान से जियो !!
!!
!!
डॉ.सी.एल.सिंह
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

8 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 26/07/2016
  2. C.M. Sharma babucm 26/07/2016
  3. mani mani 26/07/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/07/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/07/2016
  6. Dr Chhote Lal Singh Dr C L Singh 26/07/2016
  7. sarvajit singh sarvajit singh 26/07/2016
  8. Kajalsoni 26/07/2016

Leave a Reply