“सी एम् शर्मा”………मनिंदर सिंह “मनी”

मैं अनजान था एक अक्स से,
पर वो हर रोज मुझ से मिलता,
लिखे मेरे लफ़्ज़ों पर कभी सुझाव,
कभी उत्साह बढ़ा, लाजवाब लिखता,
तत्परता के साथ पढ़ी रूप-रेखा, मैंने,
छप्पन साल का युवा, बैंक में कार्य करता,
जिंदगी के हर दौर का अनुभव,
उसका लिखा हर लफ्ज़ बयां करता,
प्रतिक्रियाओ में जिंदादिली डाल,
हर किसी चेहरे पर मुस्कराहट लिखता,
पैनी नज़र का अहसास, उस की,
रचनाओ में साफ़ साफ़ झलकता,
बन आमिर खान, अपनी रचनाये ले,
हिंदी साहित्य साइट के मंच पर उतरता,
ह्रदय भर, आंखे ख़ुशी से छलकती,
लिखे उसके शब्दो को जब कोई पढ़ जाता,
शब्द नहीं मेरे पास और “सी एम् शर्मा”
तुझे अपना बड़ा भाई मान “मनी” तुझे नमन करता,

नोट:- सी एम् शर्मा जी आप मेरे ही नहीं यहाँ सबके बहुत प्रिये है आप जिस तरह अपने ज्यादा से ज्यादा अपने विचार देकर हर किसी को लेखन के लिए प्रेरित करते हो वो काबिले तरफ है…….इसी तरह आप अपनी प्रतिक्रियाओ से हम सभी का हौसला बढ़ाते रहे…….और अपनी कलम से कभी गीत, कभी ग़ज़ल लिख सुनाते रहे | गर कुछ गलत लिखा हो माफ़ी दीजियेगा |

19 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
  2. C.M. Sharma babucm 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
  4. sarvajit singh sarvajit singh 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
  5. C.M. Sharma babucm 25/07/2016
  6. Kajalsoni 25/07/2016
    • mani mani 25/07/2016
  7. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 25/07/2016
  8. mani mani 25/07/2016
  9. सोनित 25/07/2016
    • mani mani 26/07/2016
  10. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 26/07/2016
    • mani mani 26/07/2016

Leave a Reply