संतोष- एक चिड़िया

कविता तो मैं बहुत सुना चुकी,
अब मैं अपनी कुछ कहानियां,
कविता की जुबानी सुनाती हूँ.

आप सोच रहे होंगे ,
कि मंच है काव्य का ,
और मैं कहानी गढ़ रही हूँ .

तो भई किस्से कहानियां भी तो ,
हमारे जीवन से ही निकलतीं हैं ,
कहानी और कविता दोनों ही ,
रेल की पटरी की तरह समांतर ही चलती है।

पुराने ज़माने की बात है ,
संतोष नाम की एक चिड़िया थी ,
जो बहुत मात्रा में हमारे ,
घरो में पाई जाती थी .

आज भी कुछ बिरला के ,
मन के पिंजरे में बंद मिल जाती हैं ,
जैसे कुछ लोग एंटीक चीजें संभाल कर रखतें हैं ,
वैसे ही कुछ लोग ने सतोष को भी ,
संजो कर रखा हुआ है।

हाँ तो मैं अब पुराने ज़माने यानि ,
अपने बचपन की बात बताती हूँ ,
हम भाई बहन जब इम्तिहान में पास होते थे ,
तो हमारे पापा ढेर सारी मिठाइयाँ ,
ले आते थे और मम्मी भी ख़ुशी ख़ुशी ,
भगवान को प्रसाद चढ़ा कर ,
हम सभी में बाँट दिया करती थीं.

हम भी तब बिना कैलोरी की परवाह करते हुए,
ढेरों मिठाइयाँ हजम कर जाते थे,
और कुछ मिठाई अपने पॉकेट में रख कर ,
ख़ुशी ख़ुशी मोहल्ले में अपने दोस्तों को अपने,
पास होने की खबर सुनाने निकल पड़ते थे.

तब किसी को नंबर या परसेंट की परवाह नहीं थी ,
सभी को इसी बात से संतोष होता था,
कि हम सब पास हो गए हैं।

आज जब मैं अस्सी पच्चासि ,
परसेंट नम्बर आने पर भी ,
बच्चों और उनके माँ बाप के.
मातमी चेहरे को देखती हूँ ,
तो ना जाने क्यूँ अचानक ही ,
मुझे अपना बचपन याद आ जाता है .

कि आज क्यूँ हम बड़े ,
अपने बच्चों की उपलब्धियों को ,
अपनी मह्त्वकांछाओं से तौल रहे हैं.

क्यूँ अपने बच्चों का दिल ,
इन छोटी छोटी बातों से तोड़ रहे हैं.
क्यूँ उनके रिजल्ट को अपने ,
अपने टूटे सपनों से जोड़ रहे हैं।

इतने नम्बर आने पर भी आज संतोष नहींहै,
क्योकि संतोष आजकल के ज़माने में,
कुछ आउटडेटिड सा गुण हो गया है .

जिसने हर परिस्थिति में संतोष कर लिया ,
वह जिंदगी की दौड़ आगे नहीं पहुँच सकता है ,
अगर हमें भी समय के साथ अगर चलना है ,
तो कभी भी किसी हाल में ,
संतोष नही करना होगा .

वैसे भी कोई भी अपनेआप को ,
किसी भी कीमत पर ,
न ही आउटडेटिड कहलाना चाहता है ,
और न ही भीड़ में ऑड वन आउट ही।

15 Comments

  1. mani mani 25/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
  4. Kajalsoni 25/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
  5. babucm babucm 25/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 26/07/2016
    • Manjusha Manjusha 26/07/2016

Leave a Reply