जहाँ गोरष तहाँ ग्यान गरीबी

जहाँ गोरष तहाँ ग्यान गरीबी
दुँद बाद नहीं कोई ।
निस्प्रेही निरदावे षेले
गोरष कहीये सोई ।।

Leave a Reply