चलता चल नर

चलता चल नर चलता चल नर
फिर तुझको किसका है डर
चलता चल नर चलता चल नर

जो तेरे सपनन की डोरी
तो करत है काहे को चोरी

चलता चल नर चलता चल नर
चलता चल नर चलता चल नर

Leave a Reply