बाजुओं का दम

हमारे बाजुओं का दम आजमाने आये हो
तुम ताकतवर हो , हमें बतलाने आये हो ।

चुपचाप गुजर जाने दो इन बादलों को छत के उपर से
चंद काले बादल लेकर हमें डराने आये हो ।

मैं वो दिया नही जो आधियों से डर जाउँगा
इसलिए तूफान लेकर मुझे धमकाने आये हो ।

मैं एक दरिया हूँ अथाह मेरा मर्म है
तुम बेवजह ही मेरी मौजों से टकराने आए हो ।

मैं झूका हूँ मगर आम ले लदी डाली नही
जो तुम यूँ ही मुझे तोड ले जाने आए हो ।

मैने भी देखे हैं जीवन मे धूप छाँव कई
मैं कोई बच्चा नही जो मुझे बरगलाने आए हो ।

हवाओं से कह दो कि अपनी हद मे रहें
खबरदार जो मेरा आशियाँ उडाने आए हो ।

राज कुमार गुप्ता – “राज“

9 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/07/2016
    • RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 24/07/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/07/2016
    • RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 24/07/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
    • RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 24/07/2016
  4. babucm C.m.sharma(babbu) 24/07/2016
    • RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 24/07/2016
  5. mani mani 25/07/2016

Leave a Reply