रविवार

एक रविवार ही है जो
रिश्तों को संभालता है
वरना बाकि
दिन तो किश्तों को
संभालने में लग जाते हैं।।

8 Comments

  1. babucm C.m.sharma(babbu) 24/07/2016
  2. सोनित 24/07/2016
  3. mani mani 24/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/07/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/07/2016
  7. Kajalsoni 24/07/2016

Leave a Reply