आफत-ए-जिगर

जहाँ में आफतें सौ और इक आफत जिगर में है…
.
.
.
.
.
.
.
.
मगर सौ झेलना आसां यहाँ इक झेलना मुश्किल…

– सोनित

16 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 23/07/2016
  2. babucm babucm 23/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/07/2016
  4. mani mani 23/07/2016
  5. Kajalsoni 23/07/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/07/2016
    • सोनित 23/07/2016
  7. Dr Chhote Lal Singh Dr Chhote Lal Singh 23/07/2016
    • सोनित 23/07/2016

Leave a Reply