“मेरी तन्हाई “

” जनाजा मेरा उठ न जाए,
तुम्हारे आने से पहले ।

काश ये वक्त थम जाए ,
तुम्हे रुलाने से पहले ।

तुम्हारे ऑखो के काजल बह रहे है ,
रह रह कर मुझपर ,

काश इन्हे थाम लेता मै ,
इस जहा से जाने से पहले ।।”

“काजल सोनी “

14 Comments

  1. mani mani 22/07/2016
    • Kajalsoni 22/07/2016
    • Kajalsoni 22/07/2016
  2. C.M. Sharma babucm 22/07/2016
    • Kajalsoni 22/07/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/07/2016
  4. Kajalsoni 22/07/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/07/2016
  6. Kajalsoni 22/07/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/07/2016
  8. Kajalsoni 22/07/2016
  9. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 23/07/2016
    • Kajalsoni 23/07/2016

Leave a Reply