येही सावन में

उमड़ घुमड़ के आइल बदरवा
फैलल बा अरमानन के चदरवा
भिजेला मन होके बावरवा
येही सावन में
देखब जब भिगल आपन बदनवा
अपनहि झुमब गाइब गनवा
अपनहि मोहा के रह जाइब हो रमवा
येही सावन में
खुबसूरत होई जाई चमनवा
हरियारी में डूब जाई इ मनवा
हरिहर चूडियाँ पहिरब सजनवा
येही सावन में
पेड़वा पर झुलवा डरा दे सजनवा
सखियन के संग हम मारव पेगवा
खिल खिल महकी मोरि जियरवा
येही सावन में
महक में बहक जाई कजरवा
खनकी चूड़ी झनकी पयलवा
ओतने बरसी सावन के बदरवा
बुझ जाई सबकर मनके पियसवा
येही सावन में।

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/07/2016
  2. babucm C.m.sharma(babbu) 23/07/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 23/07/2016
  4. Saviakna Savita Verma 23/07/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/07/2016

Leave a Reply