लब्ज

लब्ज
!!!!!!!

कद्र करना हमारी आदत है
इसे गुनाह का दर्जा मत दो

शौक इतना भी नहीँ
कि शौकिया सलाम करूँ
हो सके तो बस ज़रा सा
मर्यादा दे दो
कद्र करना हमारी आदत है .

रहम की भीख माँगने की
मेरी आदत नहीँ
जले चिराग सच्चाई की
बस इतना वादा कर दो
कद्र करना हमारी आदत है .

तामिल कर सको तो
ये तेरा बड़प्पन है
सज़दे में सर झुका सकूं
ऐसा नेक इरादा दे दो.

कद्र करना हमारी आदत है
इसे गुनाह का दर्जा मत दो !
!!
!!
डॉ.सी.एल.सिंह

6 Comments

  1. mani mani 19/07/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/07/2016
  3. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 19/07/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 20/07/2016

Leave a Reply