सोच बदलो

सोचा था ऐसा होगा,सोचा था वैसा होगा l
ना सोचा ऐसा होगा, ना सोचा वैसा होगा ll
सोचा था सोच जब दिलो दिमाग पर छाए l
क्या हुआ,क्यों हुआ कुछ समझ ना आये ll

जानता हू मै हर सोच पूरी नहीं हो पाती l
बिन सोचे मंजिल कभी नज़र नहीं आती ll
जो सोचते है उसके ही सपने बुने जाते है l
बिन सोचे कभी कामयाब नहीं हो पाते है ll

सोच हमेशा दो रूपों मे नज़र आती है l
सकरात्मक व नकरात्मक कहलाती है ll
सकरात्मक जहां आगे बढ़ना सिखाती है l
नकरात्मक स्वयं की नज़रो में गिराती है ll

सोच बदलो, ये दुनिया बदल जाएगी l
खुशिया तुम्हारे दामन मे आ जाएगी ll
घबराओ नहीं हार-जीत आती जाती है l
बड़ी सोच ही इंसान को बड़ा बनाती है ll

————

16 Comments

  1. mani mani 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 18/07/2016
  2. C.M. Sharma babucm 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 18/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 18/07/2016
  4. Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 18/07/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 19/07/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 19/07/2016
  7. sarvajit singh sarvajit singh 18/07/2016
    • Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 19/07/2016

Leave a Reply