अपनी कमियों को हम छुपा न सके…

अपनी कमियों को हम,छुपा न सके
चाह कर भी चाहत को जता न सके
कुछ इस कदर डूबे थे हम तेरी मोहब्बत में
सही और गलत का अंदाज़ा लगा न सके ||

सताती है यादे तेरी, अब भी मेरे दिल को
चाह कर भी दिल से तुझे मिटा न सके
अब जिंदगी भी अजीब लगने लगी है मुझे
तुझे खो कर भी अपनी जिंदगी को हम मिटा न सके ||

14 Comments

  1. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 15/07/2016
  2. सोनित 15/07/2016
  3. sarvajit singh sarvajit singh 16/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/07/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/07/2016

Leave a Reply