इशारे

वक़्त जो करता इशारे, इशारे मिल ही जाते ।
कोई आता नदिया किनारे इशारे मिल ही जाते ।
बाग़ के फूलों को देखो खूब खिले है आज,
कोई भंवरा गुंजन करता इशारे मिल ही जाते ।
आज सावन की फुहारें गिर रही मदहोश बन,
कोई बारिश में नहाता इशारे मिल ही जाते ।
आज पवन की उमंग भी लग रही है जोश में,
कोई जो आँचल उडाता इशारे मिल ही जाते ।

विजय कुमार सिंह
vijaykumarsinghblog.wordpress.com
Note : ब्लॉग पर तस्वीर के साथ देखें.

14 Comments

  1. mani mani 15/07/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/07/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 15/07/2016
  4. babucm babucm 15/07/2016
  5. sarvajit singh sarvajit singh 15/07/2016
  6. सोनित 15/07/2016

Leave a Reply