प्रतिनिधि

देव ! तुम्हारे पास ।
दिन दुखी जन का प्रतिनिधि बन,
आया था यह दास ।

लाया था उपहार रूप में,
केवल दुख निःश्वास ।
पर आशा भी रही चित्त में
और रहा विश्वास ।

किन्तु तुम्हारी दशा देखकर,
मन हो गया हताश ।
जग की व्यथा-कथा सुनने का
तुम्हें नहीं अवकाश ।

Leave a Reply