तू मेरे मन मधुबन बन जा

मेरे प्रियतम तू मेरे मन मधुबन बन जा
भीगती रहूँ मैं तू ऐसा सावन बन जा

आ बसा लू तुझे अपनी साँसो में
मेरे दिल की तू धड़कन बन जा

तू मेरे साजन मेरे दिलवर मेरी जान है
आ मेरी चुडियोँ की खन-खन बन जा

तू ही मेरी दुनिया बस तुम्हें ही चाहा
आ मेरी पायल की छन-छन बन जा

तू मेरे लिये रब है , मै तेरी पूजारिन हूँ
सतरंगी सपने सजाऊँ तूअन्तर्मन बन जा

कवि :दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

5 Comments

  1. mani mani 14/07/2016
  2. babucm babucm 14/07/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 14/07/2016
  4. Dushyant Patel 14/07/2016

Leave a Reply