* मोहम्मद आजाओ *

हमने न गीता पढ़ा
न पढ़ा रामायण
न पढ़ा मोहम्मद का
कुराण और आयत,
न मुझे शब्द ज्ञान
न मुझे धर्म ज्ञान
इनकी है जो वर्तमान स्थिती
नहीं है हमे इनकी काम,
लुट पाट मचा रहे
खून की नदियाँ बहा रहे
बच्चों और महिलाओं पर जुल्म ढा रहे
कैसे हम करें किसी धर्म का कवायद,
शायद इन्हें मिला ज्ञान
आधि है अधूरी है
तभी तो मानवता से
बनी इनकी दूरी है,
मोहम्मद मेरी गुजारिश है
एक बार पुनः आजाओ
धर्म की विवेचना को
आम भाषा में बतला जाओ ,
इनकी कुकृत्य देख
हमें धर्म से हो रही नफरत
काफिर बनने की हो रही चाहत ,
काफिर बनने की नरेन्द्र की चाहत को
मिटा जाओ
मोहम्मद आजाओ ।
मोहम्मद आजाओ ।।

2 Comments

  1. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 13/07/2016

Leave a Reply