आख़िरी वस्ल ।

बड़बोलापन काम आ गया, आख़िरी वस्ल में,
कहना था जो, सब कह दिया, ख़ामोश रह कर..!

बड़बोला = शेख़ीमार; बढ़-बढ़कर बातें करना;

आख़िरी = अंतिम;

वस्ल = मिलन;

ख़ामोश= चुप;

मार्कण्ड दवे । दिनांकः २३ जून २०१६.

AKHIRI VASL

5 Comments

    • Markand Dave Markand Dave 13/07/2016
  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 13/07/2016
  2. Dr Chhote Lal Singh Dr Chhote Lal Singh 25/07/2016

Leave a Reply