घर ?

यह सौ प्रतिशत सत्य है
सूर्य के किरण जैसी
की घर
केवल ईंट और गारा
से ही नहीं बनता
और यह भी सच है
कि ईंट और गारा
के सिवा भी नहीं बनता

घर, उसमे रहनेवालेां से
बनता है
और उनके प्यार से ही
सक्त होता है

रहनेवाले ही यदि
ईंट और गारा में
बदल जाए तो
घर बनेगा कैसे?

One Response

  1. C.M. Sharma babucm 11/07/2016

Leave a Reply