|| जिन्दगी ||

जिन्दगी 1

जिन्दगी एक अबूझ पहेली, प्रतिपल घड़ियाँ नई नई |
जिन्दगी को हम समझ ना पाए, और जिन्दगी बीत गई ||१||
बचपन से लेकर बुढ़ापे तक मानव, सिर धुन धुन मानव पछताया |
इस रहस्यमयी का रहस्य अंत तक, कोई समझ नहीं पाया ||२||
गणित का प्रश्न नहीं जीवन, जो सूत्रों से हल होता है |
क्षण क्षण रंग बदलता जीवन, नित नए रूप में होता है ||३||
अनुभव की ज्वाला में तपे बिना, व्याख्या नहीं हो पाती है |
क्षण प्रतिक्षण के अनुभव से, मात्र एक कहानी बन पाती है || ४||
व्याख्याकारों की व्याख्या, दे पाई न इसको रूप |
एक रूप हो सका ना जग में, कभी दूजे के अनुरूप ||५||
शायरों की यह जिन्दादिली, ऋषियों का यह झूठा स्वप्न |
दार्शनिकों के दर्शन में है, इसे समझने का ही प्रयत्न ||६||
मजबूरों की यह मजबूरी, स्वार्थियों का है यह स्वार्थ |
नाटककारों का मंच जिन्दगी, पर्मार्थियों का है परमार्थ ||७||
कोई कहता नाटक इसको, कोई कहता इसे यथार्थ |
कोई इसका अर्थ बताता, जीवन भर करना परमार्थ ||८||
कोई स्वार्थ तो कोई परमार्थ में, इसे बिताकर जाता है |
बारबार भी विचारकर मानव, समझ न इसको पाता है ||९||
अनेकों व्याख्याओं से भी संतुष्ट न मैं हो पाया हूँ |
अपनी व्याख्या कहता हूँ, जो मैं इसे समझता आया हूँ ||१०||
जिन्दगी एक अनमोल दीपक, जिसमें बसता उज्जवल प्रकाश |
जीवन पथ आलोकित करता, ज्यों रवि करता है आकाश ||११||
यह देन है विश्वरचियता की, उद्देश्य है जीवन भर जलना |
क्षण क्षण जला जला कर खुद को, जीवन पथ आलोकित करना ||१२||
ज्वलन काल है निर्धारित, मानव के वश में केवल कर्म |
प्रतिक्षण जलो दीप की लौ में, आप निभाओ मानव धर्मं ||१३||
उस प्राप्ति का भी क्या अर्थ भला, जिसके साधन हों कुत्सित कर्म |
उस लक्ष्य का पाना भी क्या है, जिससे लज्जित हो मानव धर्म ||१४||
ईसा गाँधी सुकरात समान, इस जीवन ज्योति को जलने दो |
इसकी अंतिम लौ को तुम, मानव हित में ही बुझने दो ||१५||
जिन्दगी नाम जलने का है, इस जीवन ज्योति को जलने दो |
जब तलक रहे दीये में लौ, इसे पन्थ प्रकाशित करने दो ||१६||

14 Comments

  1. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 10/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 10/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 11/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 15/07/2016
  2. सोनित 10/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 10/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 11/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 15/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 11/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 11/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 15/07/2016
    • अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव aklesh1960 11/07/2016

Leave a Reply